Monday, March 3, 2008

Smile in the face of adversity


When the going gets tough, originally uploaded by heartthatbeats.

आसमान को चूमती मेरी आकांक्षाएं

फ़ौलाद से बुलंद मेरा हौसला

प्रकाश की गति से तेज़ मेरी कल्पना

दुखों के पीछे भाग, उन्हें दूर भगाती मेरी मुस्कान

मत देखो मेरा शरीर, मत समझो मुझे अपाहिज

मैं मेरा शरीर नहीं ।

5 comments:

कच्चा चिट्ठा said...

बहुत ही बढ़िया। फोटो सचमुच लाजवाब है। आशा है कि आप भविष्य में इस तरह की पोस्टिंग करते रहेंगे। कुछ पंक्तियां दिल को छू जाती हैं। मेरी शुभकामनाएं

Dyslexicon said...

धन्यवाद । मैं प्रोहत्साहित हुआ ।

कच्चा चिट्ठा said...

क्या डॉक,
आप भी। हां पर एक बात है निरर्थक प्रयास वाली पोस्टिंग गज़ब है। ध्यान से पढ़ा तो लगा कि दम है आपकी कलम में। आप और ज़्यादा लिखना डिज़र्व करते हैं। जानती नहीं कि कितना समय आप निकाल पाते है इस सब के लिए पर। आपको और-और लिखना चाहिए

Dyslexicon said...

Thanks for your comments and the edit. A good edit can add a lot of fizz !

Sanjhi said...

Photographs and lines both are commendable.
Aap to kabliyat ka pitara ho, doc :)